भारतीय कोरी समाज

उद्देश्य

  1. कोरी/कोली, पान, स्वासी, महार, महावर, ततुआ, तांती, कबीरपंथी आदि समस्त बुनकर समाज)समाज की विभिन्न उपजातियांे में सामाजिक जागरूकता का संचार करके पारस्परिक बंधुत्व मैत्री, करूणा व प्रेम के अधार पर सम्बन्ध स्थापित करना।
  2. सामाजिक बुराईयों, अन्धविश्वासों, कुरीतियों के निवारण हेतु सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन करना।
  3. तथागत महामानव गौतम बुद्ध, बाबा साहेब डा. भीमरावजी अम्बेडकर, सद्गुरु कबीर साहेब, सिद्धहस्त लाहुबुवा जी कोरी, गुरू नारायणा, स्वामीअछूतानन्द आदि समाज सुधारकों व वीर-वीरांगना जैसे -कोरी अमर शहीद उधमसिंह, कोरी अमर शहीद वीरांगना झलकारी बाई आदि के इतिहास का प्रचार-प्रसार करना।
  4. कोरी समाज की महिलाओं में स्वाभिमान सम्मान के प्रति जागरूकता पैदा करने हेतु वीरांगना झलकारी बाई व स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के इतिहास को प्रचारित-प्रसारित करना।
  5. कोरी समाज एवं अनु.जाति/जनजाति एवं पिछड़ी जाति के सामान्य जनों कर्मचारियों/अधिकारियों की समस्याओं के निवारण हेतु यथासम्भव सहयोग प्रदान करना।
  6. कोरी समाज में सामाजिक, शैक्षिणिक, राजनैतिक और आर्थिक विकास हेतु जागरूकता लाना एवं शिक्षण संस्थाओं, पुस्तकालयों एवं वाचनालयों की स्थापना करने ‘‘कोरी विकास कोष’’ की स्थापित करना।
  7. स्वस्थ आदर्श नागरिकता, सामाजिक सद्भाव मानवीय गुणों के पोषण, प्रोत्साहन एवं बौद्धिक विकास हेतु बच्चों में तकनीकी शिक्षा ज्ञान, लोक कला व खेलकूद के प्रति अभिरूचि पैदा करना।
  8. प्रेरणात्मक साहित्य अनुसंधान हेतु ‘‘अनुसंधान स्कंध’’ संकलन, लेखन एवं प्रकाशन आदि के लिए ‘‘साहित्यक स्कंध’’ की स्थापना करना।
  9. समाज के गरीब व कमजोर वर्ग के लोगों को निःशुल्क विधिक जानकारी व सहयोग हेतु ‘‘कानूनी परामर्श व सहयोग स्कन्ध’’ एवं स्वास्थ्य संबंधी परामर्श हेतु ‘‘चिकित्सीय परामर्श व सहयोग स्कन्ध’’ की स्थापना करना।
  10. पारस्परिक सहकार व सहभागिता के माध्यम से समाज को आर्थिक रूप से स्वालम्बी  बनाने हेतु कल्याणकारी योजनाओं का प्रचार-प्रसार, सहयोग प्रदान करना।
  11. विभिन्न सहकारी व गैर सहकारी संस्थाओं द्वारा संचालित योजनाओं से प्रदान आर्थिक सहायता की जानकारी लेकर व्यवसाय हेतु कोरी/कोली समाज को प्रोत्साहन व सहयोग प्रदान करना।
  12. कोरी/कोली समाज के लोगों को अपने मूल पैतृक व्यवसाय से जोड़ने हेतु वस्त्रवयन अभियन्त्रंकी में तकनीकी ज्ञान प्राप्त करने हेतु शिक्षण प्रशिक्षण संस्थाओं आदि की जानकारी देकर सहयोग प्रदान करना।
  13. महिलाओं एवं युवाओं को सहकारिता के आधार पर कुटीर उद्योग लगाने, सिलाई-कढ़ाई आदि हेतु यथासम्भव सहयोग प्रदान करना।

संस्था की सदस्यता तथा सदस्यों के वर्ग

(क) संरक्षक सदस्य    - जो व्यक्ति संस्था को निःस्वार्थभाव से एक मुश्त 21000.00 रूपये नगद/चेक से जमा करेगा, एवं संस्था के नियमों-विनियमों को सार्थक सहयोग करेगा, वह संस्था का संरक्षक सदस्य होगा।

(ख) आजीवन सदस्यता- सम्मानित नौकरी, व्यापारी व प्रतिनिधि भाईयों हेतु सदस्यता रूपये 2500.00 एवं साधारण व्यक्तियों हेतु सदस्यता रूपये 1100.00 मात्र देय होगा।

(ग) विशिष्ट सदस्य - समाज के प्रतिष्ठित, सुशिक्षित, समाज सेवी एवं गणमान्य व्यक्ति होगें व प्रबन्धकारिणी समिति के अनुमोदन से संस्था का विशिष्ट सदस्य मनोनीत किया जायेगा।

(घ)वार्षिक सदस्यता - सम्मानित नौकरी, व्यापारी व प्रतिनिधि भाईयों हेतु सदस्यता रूपये 100.00 एवं साधारण व्यक्तियों हेतु सदस्यता रूपये 10.00 मात्र देय होगा। कार्यकाल कैलेण्डर वर्ष के 1 जनवरी से 31 दिसम्बर तक होगा।

(ड) सक्रिय/संरक्षक एवं कार्यकारिणी सदस्यता -समाज के प्रति समर्पित व्यक्ति जो संस्था द्वारा निर्धारित प्रतिमाह की सहयोग राशि या उससे अधिक अदा करने वाले महानुभाव होगें।

 

सदस्य व पदाधिकारी की शर्तें व अहर्यता-

  1. 15 वर्ष या उससे अधिक उम्र का कोई भी व्यक्ति हो।
  2. भारत का नागरिक हो।
  3. दिवालिया व पागल न हो।
  4. समान स्वभाव की संस्था का सदस्य न हो।
  5. किसी भी राजनीतिक दल का पदाधिकारी न हो।
  6. पदाधिकारी को संस्था द्वारा निर्धारित मानक का पूर्णरूप पालन करना होगा।
  7. पदाधिकारी को बुद्ध, कबीर व अम्बेडकर की विचार धारा का अनुयायी एवं पूर्णरूप से नशामुक्त रहना होगा।

सदस्य व पदाधिकारी सदस्यता की समाप्ति-

  1. सदस्य की मृत्यु होने पर।
  2. सदस्य के दिवालिया होने पर।
  3. अनेैतिक अपराध में न्यायालय द्वारा दण्डित होन पर।
  4. सदस्य द्वारा त्यागपत्र देने अथवा अविश्वास प्रस्ताव पारित होने पर।
  5. नियमित रूप से सदस्यता शुल्क न अदा करने पर।
  6. संस्था विरोधी कार्यों में लिप्त होने अथवा हानिकर कार्य सिद्ध होने पर।
  7. लगातार तीन बैठकों में अनुपस्थिति रहने पर।

पदाधिकारी, सदस्यों व सदस्यता फर्जीवाड़ा या अयोग्यता की शिकायत यदि तथ्यों के साथ जिलाध्यक्ष प्रान्तीय अध्यक्ष या संस्थाध्यक्ष को भेजेगा। प्रान्तीय(राज्य) अध्यक्ष, संस्थाध्यक्ष के संज्ञान में लाकर उसके निर्देशानुसार उचित कार्यवाही करेगा। संस्था विरोधी, फर्जीवाड़ा व गैर सामाजिक कार्यो में लिप्त व्यक्ति को अयोग्य पाया जाता है तो वह अयोग्य समझा जायेगा। प्रान्तीय अध्यक्ष के निर्णण के खिलाफ अपील संस्थाध्यक्ष़्ा/राष्ट्रीय अध्यक्ष से की जायेगा। राष्ट्रीय अध्यक्ष/संयोजक स्वंय या किसी व्यक्ति को सुनवाई के लिए करेगा। अन्ति निर्णय संस्थाध्यक्ष का होगा। उक्त प्रकरण संबंधी वाद किसी न्यायालय में नहीं ले जाया जा सकेगा। कर्यकाल-राष्ट्रीय कार्यकारिणी व अधिवेशन का कार्यकाल 5 वर्ष, राज्य व प्रान्तीय व अन्य इकाइयों की कार्यकारिणी का कार्यकाल दो वर्ष होगा।

राष्ट्रीय व राज्य(प्रान्तीय) साधरण सभा-

गठन- संस्था के आजीवन सदस्य, विशिष्ट, वार्षिक, सक्रिय सदस्य एवं जिला कार्यकारिणी द्वारा मनोनीति प्रतिनिधियों का गठन होगा।

बैठकें- साधारण सभा व कार्यकारिणी की बैठक वर्ष में कम से कम दो बार एवं विशेष बैठक अवश्यकतानुसार कभी भी सूचना देकर बुलाई जा सकती है।

सूचना अवधि - बैठक की सूचना 15 दिन पूर्व व विशेष बैठक की सूचना दूरभाष द्वारा दी जायेगी।

गण पूर्ति - बैठक व अधिवेशन में कुल सदस्यों मंे से आधे से अधिक सदस्यों की उपस्थिति गणपूर्ति मान्य होगी।

कोरम व निर्णय - उपस्थिति सदस्यों में से दो तिहाई से अधिक सदस्यों की सहमति होने पर मान्य होगा।

अधिवेशन - अधिवेशन पांच वर्ष में एक बार सम्पन्न होगा। जिसकी तिथि, स्थान, व समय कार्यकारिणी के बैठक में उपस्थिति दो तिहाई से अधिक सदस्यों की सहमति (निर्णय) से तय की जायेगी।

कर्तव्य एवं अधिकार - कार्यकारिणी का निर्वाचन का निर्वाचन, संस्था की वार्षिक रिर्पोट व वार्षिक बजट तैयार करना। संस्था के नियमों, विनियमों, परिवर्तन एवं परिवर्द्धन दो तिहाई बहुमत से करना।

 

प्रबन्धकार्यकारिणी -

गठन- ट्रस्ट की देखरेख में साधारण आमसभा व अधिवेशन द्वारा निर्वाचित सदस्यों को मिलाकर प्रबन्धकार्यकारिणी इकाई का गठन होगा। एक अध्यक्ष, संयोजक(कार्यकारी अध्यक्ष), संयोजक /कार्यकारी अध्यक्ष, चार उपाध्यक्ष, कोषाध्यक्ष, आडीटर, पांच महासचिव, चार सचिव, शेष कार्यकारिणी सदस्य होगे इस प्रकार कुल संख्या कम से कम 25 होगी। संस्था(ट्रस्ट), राज्य व राज्य के अन्र्तगत आने वाली इकाईयों के पदों की संख्या को आवश्यकतानुसार घटाने-बढ़ाने व आवश्यक दिशानिर्देश जारी करने में सक्षम होगी।

बैठकें- साधारण सभा व कार्यकारिणी की बैठक वर्ष में कम से कम दो बार एवं विशेष बैठक अवश्यकतानुसार कभी भी सूचना देकर बुलाई जा सकती है।

सूचना अवधि - बैठक की सूचना 15 दिन पूर्व व विशेष बैठक की सूचना दूरभाष द्वारा दी जायेगी। आपातकाल में किसी भी समय दूरभाष द्वारा सूचना देकर आहुति किया जायेगा।

गण पूर्ति - बैठक में कुल सदस्यों मंे से आधे से अधिक सदस्यों की उपस्थिति गणपूर्ति मान्य होगी।

रिक्त स्थानों की पूर्ति-प्रबन्धकार्यकारिणी इकाई के अन्र्तगत कोई भी आकस्मिक व त्याग पत्र द्वारा रिक्त स्थानों पर उसकी पूर्ति अध्यक्ष द्वारा शेषकाल के लिए की जायेगी। जिसकी पुष्टि बाद में बैठक में उपस्थिति दो तिर्हाइ  सदस्यों द्वारा होगी।

कोरम व निर्णय - उपस्थिति सदस्यों में से दो तिहाई से अधिक सदस्यों की सहमति होने पर मान्य होगा।

अधिवेशन - अधिवेशन पांच वर्ष में एक बार सम्पन्न होगा। जिसकी तिथि, स्थान, व समय कार्यकारिणी के बैठक में उपस्थिति दो तिहाई से अधिक सदस्यों की सहमति (निर्णय) से तय की जायेगी।

कर्तव्य एवं अधिकार -1. कार्यकारिणी का निर्वाचन का निर्वाचन, संस्था की वार्षिक रिर्पोट व वार्षिक बजट तैयार करना। संस्था के नियमों, विनियमों, परिवर्तन एवं परिवर्द्धन दो तिहाई बहुमत से करना।

  1. आवश्यकतानुसार अपने अधाीन इकाइयों हेतु आवश्यक दिशानिर्देश जारी करने में सक्षम होगी।
  2. उद््देश्यों की पूर्ति हेतु राज्य व केन्द्र सरकार के किसी(समस्त) भी विभाग, निगमों, बोर्डो,  राष्ट्रीयकृत बैंकों, नाबार्ड आदि, समाज सेवी संस्थाओं, दानशील व्यक्तियांे, व अन्य स्रोतों आदि वित्तीय सहायता आदान-प्रदान एवं चल-अचल सम्पत्ति दानस्वरूप प्राप्त करना।
  3. शिक्षण कार्य हेतु वाचनालय-पुस्तकालय की स्थापना करना।
  4. माध्यमिक शिक्षा परिषद इलाहाबाद उ.प्र., सी.बी.एस.ई. व आई.सी.एस.सी दिल्ली, से

  मान्यता प्राप्त कर शिक्षण संस्थानों की स्थापना करना

कार्यकाल- संस्था की प्रबन्धकार्यकारिणी का कार्यकाल पांच वर्ष व राज्य प्रबन्ध कार्यकारिणी का कार्यकाल दो वर्ष होगा।

राज्य/प्रादेशिक इकाई का क्षेत्र-

(1) भारतीय संविधान की प्रथम सूची में उल्लेखित राज्य और केन्द्र शासित क्षेत्रों के अनुरूप इकाईयों का गठन होगा।

(2) राज्य इकाईयों का मुख्यालय सम्बंधित राज्य/केन्द्र शासित क्षेत्र की राजधानी में होगा।

(3) मण्डल, जिला व ब्लाक की इकाईयों का स्वरूप् राज्य स्तरीय इकाइयों के समान होगा।

 

आन्दोलन एवं कार्यक्रम का असर एवं उपलब्धियों का संक्षिप्ति विवरण-

विगत 25 वर्षो में अयोजित समाजिक कार्यक्रमों के दौरान तीन हजार से अधि कमेघावी छात्र-छात्राओं को प्रोतसाहित, सौ से अधिक समाज सेवियों को सम्मानित किया जा चुका है।

2. संस्था द्वारा शारीरिक दक्षता प्रशिक्षण शिविर के माध्यम से पांच सौ से अधिक युवाओं को प्रशिक्षित किया गया। जिनमें 13 होमगार्ड, 17 उ.प्र.पुलिस, 7 सीमसुरक्षा बल, 9 सीआरपी, 4 जी. आर. पी, 19 पी.ए.सी, 2 आईटीबीपी, 5 भारतीय सेना, एक दिल्ली पुलिस, तीन उ.प्र.पुलिस में उप निरीक्षक के पद पर बिना किसी सोर्स सिप्पा के प्रशिक्षु नियुक्ति पाने में सफल हुए।

3. सैकड़ो भुक्त भोगी समाज के बन्धुओं को सामन्तों से नाजायज कब्जे की जमीन वापस दिलाई गयी।

4. दासता के भुक्तभोगी कई प्रधानों को राजनीतिक दासता से मुक्त कराकर उन्हें जागरूक किया गया।

5. एक हजार से अधिक पीड़ित परिवारों को सम्यक कानूनी परामर्श एवं सहायता देकर समस्याओं से न्याय दिलाया गया।

6. सहारनपुर में विरोधियों द्वारा खारिज कराये गये जाति प्रमाण पत्रों को बहाल कराया गया।

7. पूर्वी क्षेत्रों में भी कोरी जाति के नाम से अनुसूचित जाति प्रमाण पत्र नहीं बनाये जा रहे थे, वहां भी प्रमाण संस्था के प्रयास से बनने शुरू हुए।

8. पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जाति प्रमाण पत्र के समस्याओं के निवारण हेतु उ.प्र.अनुसूचित जाति आयोग व समाज कल्याण में समाज का पक्ष सम्यक प्रभावी ढ़ग रखकर पुष्टि किया गया व शासनादेश कराया गया कि हिन्दू जुलाहा कोई जाति नहीं है बल्कि एक पेशा है। वही पर कोलिय वंश की प्राचीन राजधानी देवदह, बनरसिया कला, नवतनवा, महाराजगंज में स्थिति व पुरातत्व विभाग से संरक्षित 88.8 एकड़ ़़क्षेत्रफल को पर्यटक स्थल के रूप में विकसित कराने का आदेश निर्देश कराकर विकसित कराने का संघर्ष जारी है।

संस्था द्वारा चलाये जा रहे रक्त दान शिवर से सैकड़ों असहाय रोगियों को रक्त उपलब्ध कराया गया, जिसकी प्रंशसा जिलास्तरीय रक्तदान कमेटी ने की साथ तीन बार संस्था के राष्ट्रीय संयोजक कोरी सुभाष लहरी द्वारा अबतक 48 बार व पदाधिकारियों द्वारा रक्तदान करने पर गोण्डा जनपद में राज्य एड्स सोसाइटी बोर्ड उ.प्र. द्वारा संस्था के गोण्डा जिला इकाई को सम्मानित किया गया। संस्था द्वारा बौद्ध संस्कार से सैकड़ो परिवरों में वैवाहिक कार्यक्रम भी सम्पन्न कराये चुके है। इसके अलावा बलात्कार जैसे घटनाओं के विरूद्ध जागरूक किया गया जिसमें दो घटनाओं में अपराधियेां को न्यायालय द्वारा सजा मिली वे अपराधी आज जेल में है।

अबतक सम्पन्न कार्यक्रम-10 प्रान्तीय अधिवेशन, 13 सम्मेलन, 5 बार कबीर शोभाया़त्रा, 14 वीरांगना झलकारी बाई जयन्ती, 8 बुद्ध जयंती, 7 अम्बेडकर जयंती व परिनिर्वाण दिवस, 9 धरना प्रदर्शन, 11 शारीरिक दक्षता शिविर, 9 फेमली गेट-टू गेदर और 4 रैलियों का कार्यक्रम सम्पन्न कराया जा चुका है।

 

संस्था की मुख्य इकाई/अनुशासन समिति भारतीय कोरी समाज (ट्रस्ट) के अधीन भारतीय कोरी समाज की राष्ट्रीय प्रबन्ध कार्यकारिणी संचालन समिति का गठन किया गया है जिसके द्वारा राज्य, मण्डल, जिला, ब्लाक, न्यापंचायत, वार्ड, ग्रामपंचायत स्तर की कमेटियों का विस्तार व गठन किया जा रहा है।

भारतीय कोरी समाज (रजि.ट्र.)भारतवर्ष, संस्था को विस्तार हेतु राष्ट्रीय इकाई का गठन किया गया जो भारतीय कोरी समाज ट्रस्ट के संरक्षण में होगी जो निम्नवत है-

राष्ट्रीय प्रबन्ध कार्यकारिणी संचालन समित-

क्र0       पद                      नाम                      निवास स्थान            मो0 नं0

1-      अध्यक्ष                     कोरी जी.पी.कबीरपंथी                भोपाल, म0प्र0                9425176961

2-      कार्यकारी अध्यक्ष      कोरी सुभाषचन्द्र लहरी                लखनऊ,उ.प्र.                 9450662763

3-      उपाध्यक्ष                 कोरी इं.एस.एस.प्रसाद                 लखनऊ,उ.प्र.                 9415909511

4-      उपाध्यक्ष                 कोरी गोपाल प्रसाद                      बनारस, उ.प्र.                 9415285509

5-      उपाध्यक्ष                 कोरी रामचन्द्र सोलंकी                 अजमेर,राजस्थान            9950996832

6-      उपाध्यक्ष                कोरी इं.एन.एल.दास                    लखनऊ,उ.प्र.                 9838746604

7-      कोषाध्यक्ष              कोरी राम सूरत दिनकर                लखनऊ,उ.प्र.                 9415410684

8-     आडीटर                 कोरी वी.पी.माणिक                      लखनऊ,उ.प्र.                 9415787818

9-     महासाचिव             कोरी इं0 बासुदेव प्रसाद                ग्वालियर म.प्र.                 9755493357

10-   महासचिव              कोरी संतोष कुमार वर्मा                लखनऊ,उ.प्र.                  9415787465

11-   महासचिव              कोरी साधू राम बौद्ध                     सुल्तानपुर,उ.प्र.               8318244371

12-   महासचिव              कोरी अनुपमा भारती                    अमेठी, उ.प्र.                   9918104669

13-   महासचिव              कोरी राम अवतार धीमान              लखनऊ,उ.प्र.                 9935857670

14-   सचिव                    कोरी बी.डी.पुष्कर                       लखनऊ,उ.प्र.                  9839472795

15-   सचिव                   कोरी प्रमोद कुमार                        ष्यामली,उ.प्र.                   9760112248

16-   सचिव                   कोरी अजब सिंह सहारनपुर,          उ.प्र.                               8126001365

17-   सचिव                   चन्दन सिंह जोगी षिमला,               हिमाचल प्रदेष                 9805186688

18-   सदस्य                  कोरी रामनाथ वैद्य                          लखनऊ,उ.प्र.                 9415789656

19-   सदस्य                  कोरी डा.ए.के.शाक्य                      लखनऊ,उ.प्र.                  9415466617

20-   सदस्य                  कोरी कालीचरन                           दिल्ली, नई दिल्ली             9312112698

21-   सदस्य                  कोरी विद्यादेवी वर्मा                      जालोन, उ.प्र.                    9454089452

22-   सदस्य                 कोरी चन्द्रशेखर वर्मा                     लखनऊ,उ.प्र.                   9721785933

23-   सदस्य                 कोरी भरत कुमार                          पटना, विहार                    7318346966

24-   सदस्य                 कोरी अषोक कुमार माहौर             आगरा,उ.प्र.                     7520192146

25-   सदस्य                 कोरी राम आधार                           बलरामपुर,उ.प्र.               9616207644

26-   सदस्य                 कोरी फेकू प्रसाद                          मुम्बई, महाराष्ट्र                 9923450657

27-   सदस्य                 कोरी ओम प्रकाष ततवा                बलिया,उ.प्र.                      7355669254

28-   सदस्य                कोरी प्रभु दयाल वर्मा                     लखनऊ,उ.प्र                     9721498325

29-   सदस्य                कोरी राम चन्द्र कमल                    कानपुर,उ.प्र.                     9044562543

30-   सदस्य                कोरी इं.वीरेन्द्र कुमार                     लखनऊ,उ.प्र.                    9935388542

इकाई उत्तर प्रदेश के पदाधिकारियों की सूची

क्रमांक           नाम                                   पद                                     निवास                                मो. न.

 

इकाई दिल्ली प्रदेश

संयोजक -  कोरी आर.एस.भगत

इकाई हिमाचल प्रदेश

संयोजक - कोरी चन्दन सिंह जोगी